Monday, December 3, 2012

सीजीरेडि‍यो आरंभ


ग्लोबल होती जा रही है दुनिया में हर एक चीज़। पत्रों की जगह टेलीफोन ने ले ली थी, टेलीफोन के बाद मोबाइल फोन आए कुछ और सुविधा युक्त। जिनमें एसएमएस के ज़रिये फोन पर व्यक्ति की उपलब्धता न होने पर भी संदेश पहुंचना शरू हो गए यानि पुराने समय के साथ तार या टेलिग्राम का ज़माना भी ख़त्म सा होने लगा। और कंप्यूटर के साथ इंटरनेट ने तो सारी सुविधाओं को एक साथ मुहैया कराने का जैसे जिम्मा ही ले लिया। लेखनी, चित्र, आवाज़, वीडियो सब कुछ मिनटों में दुनिया के एक कोने से दूसरे कोने में फौरन उपलब्ध कराने का ज़रिया।
दुनिया भर में इस अजूबे के साथ अनेकानेक लगातार होते प्रयोग हर दिन कुछ न कुछ नया देते जा रहे हैं। 70 साल पार कर चुके बुजुर्ग शायद बचपन में कहानियों और कल्पनाओं में जो कुछ सुनते थे या सोचते थे आज साकार रूप् में देखकर हतप्रभ से हैं। उस वक्त उनके लिये मनोरंजन का एकमात्र सहारा रेडियो हुआ करता था जिसे भी वे सहेजकर बड़ी किफायत से इस्तेमाल किया करते थे।
रेडियो के भी अनेकानेक रूप बदले, सीलोन और विविध भारती, आकाशवाणी के राष्ट्रीय व स्थानीय प्रसारण, कम्युनिटी रेडियो मनोरंजन के साथ ज्ञान और शि‍क्षा के साथी बने। बिनाका गीतमाला जैसे लोकप्रिय कार्यक्रमों ने रिकॉर्ड्स तोड़ डाले। मीडियम वेव, शॉर्टवेव के केन्द्रों का अस्पष्ट सा प्रसारण दूर के श्रोताओं के मन में कुछ नया सुनने की चाहत के साथ विरक्ति भी पैदा करने लगा व विकल्प भी ढूंढने लगा। 
एक बार फिर ज़माना बदला, एफ.एम.स्टेशन्स का नया स्वरूप, साफ स्पष्ट आवाज़, एंकरों का नया अंदाज़, 24 घंटे मनोरंजन का अनवरत सिलसिला। लेकिन एक लोकप्रिय स्टेशन के श्रोता सिर्फ 100 किमी दायरे के ही हो सकते हैं। अलग अलग लोकप्रियता और उपलब्धता छोटे छोटे दायरों में बंट कर रह गई और अब इंटरनेट रेडियो ने ये सीमा तोड़ने का भी निर्णय ले लिया है। दुनिया भर में अनेक इंटरनेट रेडियो सफलतापूर्वक चल रहे हैं जिनमें गीतों और मनोरंजन का सिला काफी मात्रा में होता है। 
छत्तीसगढ़ का अपना इंटरनेट रेडियो बनाने की कल्पना ब्लॉगर ललित शर्मा के मन में कई बरसों से बसी थी। गत मई में मेरी उनसे मुलाकात होने पर योजना पर काम प्रारंभ हुआ, लोग मिलते गए, उनकी कल्पना औरों के मन में भी बसती चली गई और वो कल्पना योजना में तब्दील होने लगी और आज वो शभअवसर आ ही गया जब उस कल्पना के साकार होने का दिन है। सीजीरेडि‍यो ने मूर्त रूप ले लिया। जहाँ पर भी इन्टरनेट कनेक्टिविटी है, वहां तक सीजी रेडियो का प्रसारण सुना जा सकता है।

संज्ञा टंडन

और अब सुनि‍ये हमारी आरंभिक पोस्‍ट.... मुबारक हो आप सबको आज का ये दि‍न....


41 comments:

RN Sharma said...

बहुत दिनों से इंतज़ार था इस पल का। इस अच्छी और सुरुचिपूर्ण शुरुवात के लिए आप "संज्ञा जी", "ललित शर्माजी" और आपके सभी सहयोगी बधाई के पत्र हैं। अभी अभी आपकी पहली पोस्ट सुनी-स्पष्ट आवाज़ और अच्छी स्क्रिप्ट दोनों ही बेहतरीन हैं। एक बार फिर धन्यवाद और बधाई। अगली पोस्ट का इंतज़ार रहेगा। कृपया ये भी बताएं की क्या आप श्रोताओं की रचनाएं भी अपने इस प्रोग्राम में शामिल करेंगी।

आर.एन.शर्मा, मुंबई।

देवेन्द्र पाण्डेय said...

वाह! आनंद आ गया अपना रेडियो देखकर..सुनकर।

CG स्वर said...

धन्‍यवाद शर्मा जी आपके द्वारा कि‍ये गये उत्‍साहवर्धन का..जी हां हम श्रोताओं की अच्‍छी रचनाओं का भी प्रसारण करेंगे.

हेमन्‍त वैष्‍णव said...

गजब सुघ्‍घर....गाड़ा गाड़ा बधाई।

संध्या शर्मा said...

बहुत ख़ुशी का दिन है आज. इस खूबसूरत शुभारम्भ के लिए संज्ञा जी , ललित शर्माजी और आपके सभी सहयोगियों को हार्दिक बधाई और ढेरों शुभकामनायें. पहली पोस्ट सुनी बहुत अच्छा लगा सुनकर. सचमुच सबकुछ मिलेगा यहाँ जो हम सुनना चाहते हैं. अगली पोस्ट का इंतज़ार है...
"ऐसी उड़ान भरो छू लो गगन सारा..........
हमारी सारी दुआएं आपके साथ हैं...."

Padm Singh said...

बहुत सुंदर.... और एंकर का अंदाजे बयां तो अद्भुद है :) कृपया डैशबोर्ड की सेटिंग मे जा कर शब्द वेरिफिकेशन हटा दें॥

satyendra said...

Congratulations.......

संगीता पुरी said...

गजब .. बहुत अच्‍छा लगा ..

editor.cginfo said...

badhai

SUNIL CHIPDE ,BILASPUR said...

बधाई और धन्यवाद

girish pankaj said...

बधाई हो....बधाई हो। मज़ा आ गया सुन कर। संज्ञा और ललित की यह पहल दुनिया भर में लोकप्रिय होगी, हार्दिक शुभकामनाये। छत्तीसगढ़ से ये गौरवशाली अध्याय शुरू हुआ है।

kunwarji's said...

शुभकामनाये और बधाई स्वीकार करे.,

कुँवर जी,

Manoj K said...

हार्दिक बधाई

Anju (Anu) Chaudhary said...

बहुत बहुत बधाई और दिल से शुभकामनाएँ

SUNIL CHIPDE ,BILASPUR said...

*****
जीभ
महत्वपूर्ण हो गई
चलती ही रहती है
सबकी
कान ने
काम करना बंद कर दिया है
हड्डियों तक
सिर्फ ठण्ड पहुचाते है
कान
दिल दिमाग तक के
रस्ते में
हाफाने लगता है
शोर से
मीठास की
आक्सिज़न नहीं ले पाता
भावनाओ के स्वर खोने लगे है
ट्वीटर के पंखो पर
फेसबुक की दीवारों पर
इन्टरनेट के कचरे के बीच
पुराना पोस्ट कार्ड
फिर देखा आज
तीन बाई पांच
साइज़ में छोटा
पर भावनाओ के सम्प्रेषण में अव्वल सा
पोस्ट पोस्ट के इस खेल में
पोस्ट कार्ड सा स्वर
सी जी रेडिओ का स्वर

Aamir Pasha said...

ये रेडियो की दुनिया में एक क्रांतिकारी परिवर्तन है. नए उद्घोषकों को स्क्रिप्ट कैसी पढ़ी जाती है ये सिखने में मदद मिलेगी.
आपका तहे दिल से शुक्रिया.

Sanjeet Tripathi said...

बहुत ही बढ़िया। गाड़ा-गाड़ा बधाई। शुभकामनाएं

यशवन्त माथुर said...

हार्दिक शुभ कामनाएँ!


सादर

Ratan singh shekhawat said...

बहुत बहुत बधाई

हरकीरत ' हीर' said...

बहुत बहुत बधाई ललित जी संज्ञा जी ....
आवाज़ अभी सुनी नहीं फिर आती हूँ ......

अल्पना वर्मा said...

बहुत ही बढ़िया। बधाई। शुभकामनाएं!

Kulwant Happy "Unique Man" said...

वाह वाह क्‍या बात है

Rahul Singh said...

हार्दिक शुभकामनाएं.

Archana said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति......शुभकामनाएँ ...

काजल कुमार Kajal Kumar said...

वाह जी बल्‍ले बल्‍ले

पर इसपर कार्टून कैसे दि‍खाओगे :)

अल्पना वर्मा said...

बहुत-बहुत बधाई!

RAKESH JAJVALYA राकेश जाज्वल्य said...

wah......bahut bahut shubhkamnayen...sab ko..... :)

Ratan singh shekhawat said...

आज का पहला प्रोग्राम सुनकर अभिभूत हूँ और खुश हूँ कि सीजी रेडियो का डोमेन बुक कराने का छोटा सा कार्य कर इसकी शरुआत से मैं भी जुड़ गया :)

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) said...

मुबारक, मुबारक, मुबारक

सीजी रेडियो के पहिली पोस्ट बर ललित भाइ अउ संज्ञा जी ला गँज अकन बधई. क्वालिटी घलोक मस्त हे.

sanjay kumar sahu potiyakala said...

बेहतरीन आँर साफ आवाज ! बहुत बहुत बधाई ।

Padm Singh said...

बधाई सिंह सा

Ashok Bajaj said...

आपको और संज्ञा जी को आन लाइन रेडियो प्रारंभ करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद !

Avinesh Kumar Singh said...

Congrats !! Sangya ji for your new endeavor. I definitely want to make the programs musical through my Harmonica... That would be my contribution towards your initiative... I have to appreciate that you got a lovely voice... and my HINDI is going to improve a lot. From next time I will post in Hindi... Good luck !! Regards, Avinesh

Asha Saxena said...

ऑनलाइन रेडियो प्रारम्भ करने के लिए हार्दिक बधाई |
आशा

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत बढ़िया ......

vandana gupta said...

इस खूबसूरत शुभारम्भ के लिए संज्ञा जी , ललित शर्माजी और आपके सभी सहयोगियों को हार्दिक बधाई और ढेरों शुभकामनायें.सुनकर आनन्द आ गया ।

उदय - uday said...

badhaai va shubhakaamanaayen ...

Harihar Vaishnav said...

वाह वाह! क्‍या बात है,हार्दिक शुभकामनाएं

ana said...

wah wah .....shubhakamnaye

Ratan singh shekhawat said...

कल से बार बार आ रहें अगला प्रोग्राम सुनने के लिए !!

ब्लॉ.ललित शर्मा said...

सी जी रेडिओ के शुभारम्भ पर सभी मित्रों को हार्दिक शुभकामनाएं, यह रेडिओ मील का पत्थर साबित होगा। पुनश्च बधाई।

Post a Comment